इन 420 कंपनियों के शेयर बेचने पर नहीं लगेगा LTCG टैक्स

IDEALSTOCK |  घरेलू बाजार में आई चौतरफा गिरावट ने बीते आठ महीनों में शेयरों में आई मजबूती को खत्म कर दिया है. बाजार ने अपनी सारी बढ़त गंवा दी है. मगर इस वजह से निवेशकों के लिए एक अच्छी खबर है. निवेशकों को अभी बेचने पर 420 शेयरों पर एलटीसीजी टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें: क्या होता हैं LTCG TAX

अभी ये शेयर 31 जनवरी के अपने भाव से नीचे कारोबार कर रहे हैं. लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स (एलटीसीजी) के कैलकुलेशन के लिए इस साल 31 जनवरी की तारीख निर्धारित की गई है. इस तारीख को शेयरों के भाव के आधार पर ही एलटीसीजी आंकलन होगा.

इसे भी पढ़ें: पॉरिन्जू, माहेश्वरी के PMS पर भी पड़ी गिरावट की मार

गुरुवार को बीएसई 500 इंडेक्स के 366 शेयरों ने 31 जनवरी की कीमतों से 10 फीसदी नीचे कारोबार खत्म किया. 23 शेयरों में गिरावट 5 से 10 फीसदी की रही, जबकि 31 शेयरों ने 5 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की थी.

इंट्राडे स्टॉक मार्किट में प्रॉफिट बुक करने के लिए यहाँ क्लिक करे :- Good advice for your Trade Stock

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स

IDEALSTOCK | बजट 2018 में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स लगाने की घोषणा की गई। वित्तमंत्री की इस घोषणा के बाद से भारतीय शेयर बाजार लगातार गोते लगा रहा है। लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स क्या है और इसका शेयर बाजार में निवेश करने वाले निवेशकों पर क्या असर होगा इसके बारे में हम आपको इस लेख में विस्तार से और आसान शब्दों में समझाने का प्रयास करेंगे।

क्या है लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स?

मान लीजिए आप शेयर बाजार में निवेश करते हैं और आप 10 लाख रुपए के शेयर्स खरीद लेते हैं। कुछ दिन बाद आपको उन शेयरों पर 2 लाख रुपए का लाभ मिलता है यानि कि कुल मिलाकर आपका मूलधन और लाभ 12 लाख रुपए बन जाता है। अब यदि आप इस धन को 1 वर्ष से पहले निकाल लेते हैं तो आपको 15 प्रतिशत टैक्स देना होगा और यदि 1 वर्ष के बाद निकालते हैं तो आपको 10 प्रतिशत टैक्स देना होगा।

सिर्फ लाभ की राशि पर लगेगा टैक्स

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स सिर्फ लाभ पर ही लिया जाता है। आपके 2 लाख रुपए के मुनाफे पर ही टैक्स देय होगा ना कि पूरे 12 लाख रुपए की राशि पर यानि कि 2 लाख रुपए पर आपको 20 हजार रुपए का टैक्स अदा करना होगा और एक वर्ष से कम समय में निकालने पर आपको 15 प्रतिशत के हिसाब से 30 हजार रुपए का टैक्स अदा करना होगा।

1 लाख रुपए से अधिक लाभ पर देना होगा टैक्स

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स सिर्फ एक लाख से अधिक हुए लाभ पर ही देय होगा। यदि आपका कुल लाभ 1 लाख रुपए या उससे कम है तो उस पर किसी तरह का टैक्स नहीं लगेगा। कुल मिलाकर यदि आप छोटे निवेशक हैं तो आपको चिंता करने की जरुरत नहीं है। तमाम बड़े निवेशक जो एक दिन में कई सौ करोड़ रुपए का निवेश करते हैं उनके लिए ये टैक्स चिंता जनक है।

ऐसे समझें
लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) टैक्स कब लगता है-

1 लाख से अधिक के लाभ पर 10 प्रतिशत टैक्स, जब राशि को 1 साल के बाद निकाला जाएगा।

1 लाख से अधिक के लाभ पर 15 प्रतिशत टैक्स, जब राशि को 1 वर्ष से कम के समय में निकाला जाएगा। यहां शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगेगा।

टैक्स सिर्फ 1 लाख से अधिक की राशि पर लगेगा।

टैक्स सिर्फ लाभ की राशि पर कटेगा जो कि 1 लाख रुपए से अधिक होना चाहिए

एक लाख रुपए से कम की राशि पर किसी तरह का टैक्स नहीं लगाया गया है।

मार्केट का ‘तापमान’ कम करने की कोशिश

पिछले कुछ दिनों से शेयर बाजार में धुंआधार तेजी देखी जा रही है। सेंसेक्स को 33 हजार से 36 हजार पहुंचने में ज्यादा समय नहीं लगा वहीं निफ्टी भी 11 हजार से ऊपर कारोबार कर रहा था। हो सकता है कि सरकार मार्केट को सामान्य स्तर पर लाने के लिए इस तरह का टैक्स ला रही है। इससे मार्केट में तेजी से होने वाला उतार-चढ़ाव थम सकता है और बाजार के ज्यादा स्थिर बने रहने की संभावना बनी रहेगी।

इन 5 शेयरों में नजर आ रहा है दम, कीमतें भी हैं कम

IDEAL STOCK | प्रमुख index अपने सर्वोच्च स्तर से करीब 12 फीसदी तक नीचे खिसक आए हैं. मिडकैप और स्मॉलकैप इंडेक्स पर भी मंदड़ियों का ही बोलबाला है. सिंतबर महीने के दौरान कई मिडकैप शेयरों की कीमतें 10 से 65 फीसदी तक घट गईं.

इसी तरह की पिटाई स्मॉलकैप शेयरों की भी हुई. कुछ स्मॉलकैप शेयरों ने 75 फीसदी तक का गोता लगाया. हालांकि, बाजार की इस गिरावट ने कई महंगे शेयरों को वैल्यूएशन के आधार पर किफायती बना दिया है. हम आपको ऐसे ही पांच शेयरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके दाम कम हैं, मगर इनमें काफी दम दिख रहा है:

 एक्सिस बैंक
मौजूदा कीमत: 589.35 रुपये
सितंबर में बदलाव: -14.86 फीसदी
औसत टार्गेट प्राइस: 630.78 रुपये

एक्सिस बैंक का रेवेन्यू और परिचालन मुनाफा क्रमश: 19 फीसदी और 20 फीसदी की दर से बढ़ेगा. सोफत ने कहा, “वित्त वर्ष 2020 में कर्ज लागत कम होगी. बैंक की एसेट क्वालिटी मजबूत है. बैंक के पास उच्च स्तरीय के कॉर्पोरेट खाते हैं.”

FREE INTRADAY CASH LEVEL :- BUY JETAIRWAYS ABOVE 198 TARGET 207 WITH SL 193

बजाज फाइनेंस
मौजूदा कीमत: 2,266.05 रुपये
सितंबर में बदलाव: -27.89 फीसदी
औसत टार्गेट प्राइस: 2,519.40 रुपये

मौजूदा चुनौतीपूर्ण माहौल में बजाज फाइनेंस एक मजबूत एनबीएफसी है. पहले यह शेयर महंगा था. मगर, अब इसकी वैल्यूएशन किफायती है. रिलायंस सिक्योरिटीज के रिसर्च प्रमुख नवीन कुलकर्णी ने कहा, “एनबीएफसी सेक्टर में बजाज फाइनेंस सबसे बेहतर विकल्प है.”

FREE INTRADAY FUTURE LEVEL:- BUY ARVIND FUTURE ABOVE 321 TGT 327 SL 316

जुबिलंट फूडवर्क्स
मौजूदा कीमत: 1,191.70 रुपये
सितंबर में बदलाव: -25.6 फीसदी
औसत टार्गेट प्राइस: 1,528.03 रुपये

जुबिलंट एक अच्छा शेयर है और इसकी वैल्यूएशन भी काफी कम हो गई है. कुलकर्णी ने कहा, “दूसरी तिमाही में कंपनी से कमाई में 40 फीसदी और रेवेन्यू में 19 फीसदी ग्रोथ की उम्मीद है.” फिलिप कैपिटल भी इस शेयर के प्रति आश्वस्त है.

FREE INTRADAY OPTION LEVEL:- BUY ACC 1400 PUT OPTION ABOVE 52 TARGET 64 SL 44

टाइटन कंपनी
मौजूदा कीमत: 787.85 रुपये
सितंबर में बदलाव: -15.76 फीसदी
औसत टार्गेट प्राइस: 1,020.32 रुपये

“कंपनी को संगठित क्षेत्र में बढ़ी दिलचस्पी का खास लाभ मिल रहा है. इसका असर शेयरों में आई तेजी से भी दिखता है. सोने की कीमतें और कंपनी प्रबंधन की भूमिका अहम होगी.”

 

FREE INTRADAY FUTURE LEVEL:- BUY ENGINERSIN FUTURE  ABOVE 112.30 TARGET 116.80 WITH SL 109.80

आईटीसी
मौजूदा कीमत: 270.05 रुपये
सितंबर में बदलाव: -15.87 फीसदी
औसत टार्गेट प्राइस: 344.44 रुपये

आईटीसी की बैलेंस शीट के चलते इसका पक्ष ले रहे हैं. कंपनी का गैर-तंबाकू कारोबार बढ़ रहा है. “हम वित्त वर्ष 19 की दूसरी तिमाही में कंपनी से ठोस नतीजों की उम्मीद कर रहे हैं. कंपनी के एफएमसीजी कारोबार से अच्छी उम्मीद है.”

स्टॉक मार्किट में सही सुझाव प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करे :- Good advice for your investment

आइडियल स्टॉक रिसर्च फर्म का दावा, 10% तक टूट सकता है बाजार

IDEALSTOCK बाजार में उठापटक का दौर जारी है. सोमवार को हल्की तेजी दिखाने वाला घरेलू शेयर बाजार मंगलवार को फिर नरम पड़ गया. बाजार में एक बार फिर बड़ी गिरावट दिखाई देने की आशंका है. आइडियल स्टॉक रिसर्च फर्म का दावा है वैश्विक ब्रोकरेज नोमुरा, जो भारतीय शेयर बाजार के प्रति खास आकर्षित नहीं है.

आइडियल स्टॉक का मानना है कि भारतीय शेयर बाजार अब भी 5 से 10 फीसदी तक टूट सकता है. निकट भविष्य में वैल्यूएशन अब भी आकर्षक नहीं हैं. हालांकि, बाजार की मौजूदा गिरावट ने कई शेयरों के वैल्यूएशन को काफी हद तक कम कर दिया है.

आइडियल स्टॉक बताते हे की नोमुरा एडवाइजरी एंड सिक्योरिटीज (इंडिया) ने अनुमान जताया है कि सितंबर 2019 तक निफ्टी 50 इंडेक्स 11,270 के स्तर तक पहुंचेगा. इससे पहले इस जापानी ब्रोकरेज का मत था कि निफ्टी जून 2019 तक 11,892 का लक्ष्य हासिल करेगा.

इसे भी पढ़ें: बाटा इंडिया लि. खरीदें रुपये 950 के लक्ष्य पर

अगस्त में वैल्यूएशन 18.8 गुना के शिखर स्तर पर था, जो अब लुढ़ककर 16.1 गुना पर आ गया है. “अर्निंग यील्ड और बॉन्ड यील्ड के बीच का फर्क अब भी दीर्घावधि औसत से काफी कम है, जो वैल्यूएशन अधिक होने के संकेत दे रहा है.”

कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के चलते तेजी से उछाल मारता कारोबारी घाटा भी चिंता का विषय है. इसके अलावा एनबीएफसी को लेकर कर्ज और लिक्विडिटी के पनप रहे सवाल भी निकट भविष्य में आर्थिक विकास को प्रभावित कर सकते हैं.

सुस्त घरेलू विकास दर से नजदीकी समय में कमाई पर असर पड़ेगा. नोमुरा का कहना है कि तेल कंपनियों को कीमतों का दबाव झेलने का सरकार का फरमान भी कंपनियों पर कमाई का बोझ बढ़ा सकता है.

इंट्राडे में प्रॉफिट कमाने के लिए यहाँ क्लिक करे :- BOOK YOUR PROFIT.

 

बाटा इंडिया लि. खरीदें रुपये 950 के लक्ष्य पर: IDEAL STOCK

IDEALSTOCK बाटा इंडिया लि. के शेयर रूपये 950.0 के लक्ष्य मूल्य पर खरीदें . बाटा इंडिया लि. . का मौजूदा बाजार मूल्य रूपये 894.7 है .मार्केट एक्सपर्ट ने इसकी समयावधि इंट्रा डे तय की है, जब बाटा इंडिया लि. की कीमत अपने निर्धारित लक्ष्य तक पहुंच सकती है. निवेशकों को IDEAL STOCK की हिदायत है कि वे स्टॉपलॉस रुपये 864 रखें और इसका सख्ती से पालन करें.

बाटा इंडिया लि., चमड़ा क्षेत्र में सक्रिय, साल 1931 में निगमित, एक मिड कैप कंपनी है (मार्केट कैप – Rs 11499.36 करोड़) |

समाप्ति तिमाही 30-06-2018 के लिए, कंपनी द्वारा रिपोर्टेड स्टैंडअलोन बिक्री – Rs 797.28 करोड़ है, 26.09 % ऊपर, अंतिम तिमाही की बिक्री-Rs 632.31 करोड़ से, और 8.32 % ऊपर पिछले साल की इसी तिमाही की बिक्री – Rs 736.06 करोड़ से| नवीनतम तिमाही में कंपनी का Rs 82.55 करोड़ का रिपोर्टेड टैक्स पश्चात शुद्ध मुनाफा है| 30-06-2018 को, कंपनी के कुल, 128,527,540 शेयर बकाया है|

इंट्राडे में प्रॉफिट कमाने के लिए यहाँ क्लिक करे :- BOOK YOUR PROFIT.

 

Investor Disappointment आवास फाइनेंशियर्स की शेयर बाजार पर कमजोर शुरुआत

IDEALSTOCK: हाउसिंग फाइनेंस कंपनी आवास फाइनेंशियर्स के शेयर सोमवार को स्टॉक एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध हो गए. बीएसई पर कंपनी के शेयर इश्यू प्राइस के मुकाबले 7.7 फीसदी डिस्काउंट के साथ 759 रुपये पर लिस्ट हुए, जिससे निेवेशक मायूस हो गए. इस शेयर का इश्यू प्राइस 821 रुपये था.

कंपनी का आईपीओ 25 सितंबर से 27 सितंबर के दौरान निवेश के लिए खुला था. आईपीओ के जरिए आवास फाइनेंशियर्स ने प्राथमिक बाजार से 1,734 करोड़ रुपये जुटाए थे. 818 रुपये से 821 रुपये के प्राइस बैंड वाला यह आईपीओ 0.97 फीसदी तक सब्सक्राइब हुआ था.

कई ब्रोकरेज फर्मों ने इस आईपोओ के बारे में मिलीजुली राय दी थी. आवास का बिजनेस काफी ठोस है, जो इसकी ग्रोथ की उम्मीद को मजबूत करता है.

बेहतर क्रेडिट क्वालिटी, बिजनेस सोर्सिंग, शानदार जोखिम प्रबंधन और बढ़िया कलेक्शन जैसे कारणों से कंपनी की स्थिति दृढ़ है. कंपनी के सकल एनपीए 0.5 फीसदी पर हैं, जो इसकी वैल्यूएशन को वाजिब ठहराते हैं.

ब्रोकरेज ने कहा, “61 फीसदी का वार्षिक रिटर्न, चुनौतीपूर्ण बाजार स्थितियां और ऊंची वैल्यूएशन का जोखिम आने वाले समय में तेजी को सीमित कर सकती हैं.” एन्टीक ब्रोकिंग ने कहा था कि यह शेयर वित्त वर्ष 19 के कमाई अनुमानों के 43 गुना की मांग कर रहा है, जो तेजी के आसार सीमित करता है.

कंपनी का कहना है कि वह आईपीओ से होने वाली आय में से 400 करोड़ रुपये का इस्तेमाल परिचालन पूंजी व अन्य कॉर्पोरेट जरूरतों के लिए करेगी. कंपनी के शेयरधारकों ने आईपीओ में अपने 1,334 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री की है.

फिलहाल शेयर बाजार की स्थिति काफी नाजुक बनी हुई है. कमजोर सेंटिमेंट ने भी आईपीओ की लिस्टिंग पर असर डाला है. आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, सिटीग्रुप ग्लोबल मार्केट्स इंडिया, एडलवाइज फाइनेंशियल सर्विसेज, स्पार्क कैपिटल एडवाइर्जर्स (इंडिया) और एचडीएफसी बैंक इस इश्यू के मर्चेंट बैंकर्स थे.

शेयर बाजार से जुडी खबरों और इंट्राडे स्टॉक मार्किट में सुझाव लेने के लिए यहाँ विजिट करे :- Click Here

Be Careful Stock Investors Nifty Rock

IDEAL STOCK | महज 25 सत्रों में सेंसेक्स 4,600 अंक से ज्यादा टूट चुका है. बाजार की यह स्थिति किसी आपदा से कम नहीं है. अगर आप सोच रहे हैं कि बाजार बहुत गिर चुका है और इससे नीचे नहीं जाएगा तो आप गलत हैं. बाजार में और गिरावट आने वाली है.

आइडियल स्टॉक के अनुसार, दलाल पथ पर अभी असली ‘तूफान’ आना बाकी है. यह तूफान छह सप्ताह में दस्तक देगा. उनके तर्क विचारणीय हैं. मौजूदा समय में शेयर बाजार बहुत ज्यादा संवेदनशील हैं. छोटी से बात का भी बाजार पर बड़ा असर होगा.

कमजोर अर्थव्यवस्था, विदेशी निवेशकों की बिकवाली, कच्चे तेल की कीमतों में उबाल, रुपये की सुस्ती और कुछ कंपनियों से जुड़े मसलों ने बाजार की बदतर कर दी है.

इसे भी पढ़ें: Should you buy shares of ICICI Bank after Kochar’s resignation?

आने वाले दिनों में कई बातें बाजार पर दबाव बढ़ा सकती हैं. अमेरिका द्वारा ईरान पर प्रतिबंध पहली वजह है. अमेरिका के मध्यावधि चुनाव दूसरी और भारत के घरेलू चुनाव तीसरी बड़ी वजह हैं.

दर्द अभी बाकी है
मारा मानना है कि “निफ्टी 9,900 के स्तर की तरफ बढ़ रहा है.” इसका अर्थ है कि निफ्टी में करीब 400 अंक और सेंसेक्स में लगभग 1,200 अंकों की और गिरावट आ सकती है.”आने वाले छह सप्ताह इक्विटी निवेशकों का दर्द बढ़ सकता है.

” बाजार की सबसे बड़ी चिंता ईरान पर लगने वाले प्रतिबंध हैं, जो 4 नवंबर से लागू होंगे. भारत अपने तेल की जरूरत का 10-12 फीसदी ईरान से आयात करता है.

हमारा मानना है कि “बाजार अभी इस मसले को हल्के में ले रहा है. रूस और सउदी अरब तेल के सबसे बड़ी उत्पादक हैं. इस वजह से वह वजह से ईरान पर प्रतिबंध को ज्यादा तवज्जों नहीं दे रहा है. छह सप्ताह बाद यानी नवंबर मध्य तक तस्वीर साफ हो जाएगी.

निवेशकों का इम्तिहान

विदेशी निवेशक तेजी से भारतीय बाजार से कन्नी काट रहे हैं. इस साल वे अभी तक 17,664 करोड़ रुपये की निकासी कर चुके हैं, जो साल 2008 के 52,987 करोड़ रुपये की निकासी के बाद सबसे खराब प्रदर्शन है. बीते तीन सत्रों में विदेशी निवेशकों ने 1,500-1,600 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं.

इसे भी पढ़ें: कोचर के इस्तीफे के बाद क्या आपको ICICI बैंक के शेयर खरीदने चाहिए?

इस तरह की बिकवाली से बाजार और लुढ़क सकता है. विदेशी निवेशकों ने बीएसई 200 इंडेक्स के शेयरों में करीब $408 अरब का निवेश किया हुआ है. प्रभाकर ने कहा, “बाजार लिक्विडिटी पर चलते हैं. म्यूचुअल फंड स्कीमें नीचे हैं. ऐसे में रिटेल निवेशकों का विश्वास कायम रहना एक कठिन सवाल है.”

अमेरिकी मध्यावधि चुनाव

नवंबर में अमेरिका में मध्यावधि चुनाव होंगे. इन चुवानों के बाद अमेरिका दोस्ती और दुश्मनी कैसे करता है, इस पर सभी की नजरें होंगी. चुनाव ट्रेड वॉर और ईरानी प्रतिबंधों पर भी असर डालेंगे. “लोगों को ट्रेड वॉर पर नजर बनाए रखनी चाहिए, जो चुनावों के बाद बढ़ सकता है.”
ईरान के प्रतिबंधों का अंतर्राष्ट्रीय बाजारों पर गहरा असर होगा. भारत में कच्चा तेल और महंगा हो सकता है. इससे मंहगाई, चालू खाता घाटा, राजकोषीय घाटा, बॉन्ड यील्ड और रुपये की कमजोरी सभी में बढ़ोतरी हो सकती है.

भारतीय राज्यों में चुनाव

इस साल भारत के पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव होने हैं. इसमें राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम शामिल हैं. इन चुनावों को आगामी लोकसभा चुनावों के सेमीफाइनल के रूप में देखा जा सकता है. भाटिया ने कहा कि ऐसी स्थिति में चुनाव के परिणाम भी बाजार को डूबा सकते हैं.
“भारतीय बाजारों का प्रीमियम कम हुआ है, मगर यह अब भी दूसरों से ज्यादा है. इस वजह से और गिरावट आ सकती है.” कच्चे तेल की कीमतों में कटौती को भी बाजार ने अच्छा फैसला नहीं माना. इसे एक लोकलुभावन उपाय के रूप में देखा गया.
इस वजह से पेट्रोलियम कंपनियों के शेयरों ने दो ही सत्रों में एक तिहाई फीसदी तक का गोता लगाया. बाजार को उम्मीद है कि चुनावों से पहले सरकार कई लोकलुभावन वादे कर सकती है. पेट्रोल और डीजल के दाम आने वाले चुनावों में अहम मुद्दा बन कर उभरेंगे.

शेयर बाजार से जुडी खबरों और इंट्राडे स्टॉक मार्किट में सुझाव लेने के लिए यहाँ विजिट करे :- Click here

 

 

Should you buy shares of ICICI Bank after Kochar’s resignation?

IDEAL STOCK | चंदा कोचर के आईसीआईसीआई बैंक के एमडी और सीईओ पद से इस्तीफा देने के बाद ब्रोकरेज फर्मों ने इसके शेयरों के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद जताई है. यूबीएस और मैक्वेरी ने बैंक के शेयरों को ‘खरीदने’ की सलाह दी है. कोचर ने छह महीने पहले रिटायमेंट देने का अनुरोध बैंक के बोर्ड से किया था, जिसे मंजूरी मिल गई.

यूबीएस ने कहा है कि कोचर का इस्तीफा बैंक के लिए अच्छा है. इसकी वजह यह है कि अब बैंक के मुख्य कारोबार पर फोकस बढ़ेगा. इस ब्रोकरेड फर्म ने आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों के लिए टार्गेट प्राइस 410 रुपये से बढ़ाकर 440 रुपये कर दिया है. उसने अपनी रिपोर्ट में कहा है, “लोन बुक की सफाई से बैंक की कमाई में सुधार होगा. हमने कोर बैंकिंग बिजनेस और रिटेल फ्रैंचाइज को देखते हुए शेयर को खरीदने की सलाह दी है.”शुक्रवार को आईसीआईसीआई बैंक के शेयर का भाव 3.79 फीसदी गिरकर 304.50 रुपये पर बंद हुआ. बैंक के बोर्ड ने गुरुवार को कोचर का इस्तीफी स्वीकार कर लिया था. बैंक के सीओओ संदीप बख्शी को इसका नया सीईओ बना दिया गया है. उन्हें पांच साल के लिए इस पद पर नियुक्त किया गया है.

शुक्रवार को आईसीआईसीआई बैंक के शेयर का भाव 3.79 फीसदी गिरकर 304.50 रुपये पर बंद हुआ. बैंक के बोर्ड ने गुरुवार को कोचर का इस्तीफी स्वीकार कर लिया था. बैंक के सीओओ संदीप बख्शी को इसका नया सीईओ बना दिया गया है. उन्हें पांच साल के लिए इस पद पर नियुक्त किया गया है.

यह भी पढ़ें : Stock Market 792 points as RBI disappoints

मैक्वेरी ने भी आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद जताई है. उसने इसके शेयरों के लिए 416 रुपये का टार्गेट प्राइस दिया है. ब्रोकरेज फर्म ने अपनी रिपोर्ट में कहा गया है, “कोचर के इस्तीफे से बड़ा अवरोध दूर हो गया है. हमें बतौर सीईओ संदीप बख्शी की नियुक्ति पर आरबीआई के एतराज की उम्मीद नहीं है. क्रेडिट कॉस्ट घटने से रिटर्न ऑन इक्विटी (आरओई) बढ़नी चाहिए.”

“ऐसे वक्त में जब बाजार का सेंटिमेंट बहुत खराब है और बैंकों को एनपीए की समस्या का सामना करना पड़ रहा है, चंदा कोचर के इस्तीफे से बैंक की साख फिर से स्थापित होगी.” उन्होंने कहा कि कोचर के इस्तीफे से निवेशकों का भरोसा भी बैंक पर बढ़ेगा. कोचर ने शालीनता के साथ बैंक से इस्तीफा दिया है, जिससे जांच सही और पारदर्शी तरीके से आगे बढ़ेगी.

शेयर बाजार से जुडी खबरों और इंट्राडे स्टॉक मार्किट में सुझाव लेने के लिए यहाँ विजिट करे :- Click here

Stock Market 792 points as RBI disappoints

IDEAL STOCK: सप्ताह के अंतिम दिन भी घरेलू शेयर बाजार मंदड़ियों की गिराफ्त में बना रहा. रिजर्व बैंक ने अपनी मुद्रा समीक्षा बैठक में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. उम्मीद के विपरीत नतीजों ने बाजार को धाराशाई कर दिया. सेंसेक्स 950 अंक तक लुढ़क गया. हालांकि, बाद में थोड़ा संभला. आरबीआई की मौद्रिक नीति के बाद रुपया पहली दफा 74 के स्तर के पार चला गया. कच्चे तेल की मंहगाई लगातार बाजार पर दबाव बढ़ा रही है.

औंधे मुंह गिर रहा बाजार निवेशकों को मोटी चपत लगा रहा है. शुक्रवार को बाजार में 4 लाख करोड़ रुपये की दौलत साफ हो गई. बीएसई सेंसेक्स पर केवल तीन शेयर ही चढ़ सके.

बीएसई सेंसेक्स ने 792 अंक या 2.25 फीसदी का बड़ा गोता लगाकर 34,377 पर कारोबार खत्म किया. निफ्टी 50 इंडेक्स भी 282 अंक या 2.67 फीसदी फिसल कर 10,316 के स्तर पर बंद हुआ. मिडकैप इंडेक्स ने ढाई, जबकि स्मॉलकैप इंडेक्स ने भी 2 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की.

निफ्टी 50 पैक पर हिंदुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम और इंडियन ऑयल के शेयर एक बार फिर 16 से 25 फीसदी तक टूटे. इसके अलावा ओएनजीसी, गेल (इंडिया), बजाज फाइनेंस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस, अडानी पोर्ट्स और जी एंटरटेनमेंट ने भी 5 से 14 फीसदी की गिरावट दर्ज की.

दूसरी तरफ, इंफोसिस के शेयर 2 फीसदी तक चढ़े. इसके अलावा सिर्फ भारती इंफ्राटेल, टीसीएस, टाइटन कंपनी, इंडसइंड बैंक, डॉ. रेड्डीज लैब्स, एचसीएल टेक्नोलॉजीज और सिप्ला के शेयरों ही हरे निशान के साथ सप्ताह का अंत करने में सफल रहे.

शुक्रवार के सत्र दौरान निफ्टी आईटी इंडेक्स के अलावा के सभी सूचकांक लाल निशान के साथ बंद हुए. आईटी शेयरों में इंफीबीम के शेयरों ने 5 फीसदी तक गिरावट दर्ज की. पीएसयू बैंक इंडेक्स 4 फीसदी, जबकि मेटल, मीडिया और ऑटो इंडेक्स 3 फीसदी से अधिक टूटे. सभी ऑटो शेयरो नरम रहे.

सरकारी बैंकों में सिर्फ आईडीबीआई बैंक के शेयर चढ़े. इंडियन बैंक ने 9 फीसदी का गोता लगाया. मेटल शेयरों में जिंदल स्टील के शेयर 12 फीसदी टूटे. मीडिया इंडेक्स पर सिर्फ डेन नेटवर्क के शेयर चढ़े, जबकि डिश टीवी 8 फीसदी नीचे आया. अशोक लेलैंड के शेयर 9 फीसदी लुढ़के.

शुक्रवार के कारोबारी सत्र के दौरान, एनएसई पर केवल आठ कंपनियों के शेयरों ने अपने 52 सप्ताह का उच्चतम स्तर हासिल किया. इसके उलट 370 कंपनियों के शेयर अपने 52 सप्ताह के न्यूनतम स्तर तक भी फिसले.

सप्ताह के अंतिम दिन निफ्टी 50 इंडेक्स पर केवल आठ शेयर हरे, जबकि 42 शेयर लाल निशान के साथ बंद हुए. बीएसई पर 701 शेयरों ने मजबूती के साथ और 1,950 शेयरों ने कमजोरी के साथ दिन का कारोबार का अंत किया.

स्टॉक मार्किट में इंट्राडे टिप्स के लिए यहाँ क्लिक करे :- Intraday Market tips 

बाटा इंडिया लि. बेचें रुपये 835.0 के लक्ष्य पर: IDEAL STOCK

बाटा इंडिया लि. के शेयर रूपये 835.0 के लक्ष्य मूल्य पर बेचें . बाटा इंडिया लि. . का मौजूदा बाजार मूल्य रूपये 866.0 है .मार्केट एक्सपर्ट ने इसकी समयावधि इंट्रा डे तय की है, जब बाटा इंडिया लि. की कीमत अपने
निर्धारित लक्ष्य तक पहुंच सकती है. निवेशकों को IDEAL STOCK की हिदायत है कि वे स्टॉपलॉस रुपये 879 रखें और इसका सख्ती से पालन करें.

समाप्ति तिमाही 30-06-2018 के लिए, कंपनी द्वारा रिपोर्टेड स्टैंडअलोन बिक्री – Rs 797.28 करोड़ है, 26.09 % ऊपर, अंतिम तिमाही की बिक्री-Rs 632.31 करोड़ से, और 8.32 % ऊपर पिछले साल की इसी
तिमाही की बिक्री – Rs 736.06 करोड़ से| नवीनतम तिमाही में कंपनी का Rs 82.55 करोड़ का रिपोर्टेड टैक्स पश्चात शुद्ध मुनाफा है|

30-06-2018 को, कंपनी के कुल, 128,527,540 शेयर बकाया है|